financial shiksha kyon jaruri hai?

Agar ap janna chahte hai ki financial shiksha kyon jaruri hai humare liye, to ap bilkul sahi jagah aaye hai. Yahan apko puri jankari milegi. to chaliye shuru karte hain.

jab maine Social Media par financial shiksha kyon jaruri hai ke bare me ek post padha.

मैंने कहीं सोशल मीडिया पर पढ़ा था जिसमे लोगों से पूछा गया था कि आपकी राय में गरीबी का सबसे बड़ा कारण क्या है? बहुत से लोगों ने वहां अपने अपने नजरिये से जवाब दिया था।

कुछ लोगों ने कहा कि भ्रष्ट नेताओं के कारण तो कुछ लोगों कहा नौकरियां न होने के कारण, कुछ ने कहा महंगाई के कारण तो कुछ ने कहा उचित शिक्षा न होने के कारण गरीबी बढ़ती ही जा रही है। यहाँ तक कि जनसँख्या वृद्धि भी एक वजह बताई गयी।

वहां बहुत लोगों ने अपने अपने तरीके से जवाब देने की कोशिश की। कई बड़े-बड़े विद्वानों ने वहां नेताओं को तो कुछ उनके कामो को दोष दिए जा रहे थे।

However The real factor about financial litracy is diffrent for students .

एक बार आप भी सोच कर देखिये।

इस गरीबी का सबसे बड़ा कारण आखिर है क्या? क्या कोई अच्छा नेता अकेले ही गरीबी मिटा सकता है।

अगर इस देश में आबादी काम हो गई तो क्या गरीबी मिट जायगी?

या फिर जिनके पास नौकरियां हैं उन्हें पैसों की कमी के कारण किसी चीज के लिए अपने मन को मरना नहीं पड़ता?

या सिर्फ महंगाई काम होने से गरीबी मिट सकती है? स्वयं विचार कीजिये। …….

नहीं? इन सब के होने या न होने से किसी गरीब या उसकी गरीबी पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा।

In other words ,The main Reason ( असली कारण )

अब आप सोच रहे होंगे कि सबसे बड़ा कारण है शिक्षा का ना होना। हाँ! ये सच है लेकिन आधा सच है। किसी परिवार का शिक्षित ना होना उनकी गरीबी का सबसे बड़ा कारण हो सकता है लेकिन इसका ये मतलब भी नहीं कि सिर्फ स्कुल , कॉलेजेस उनकी पैसों की तमाम परेशानियों का हल सिखाती है। मैं ये नहीं कह रहा कि स्कुल, कॉलेजेस हमे गलत शिक्षा देते हैं या हमे स्कुल, कॉलेजेस से शिक्षा नहीं लेनी चाहिए।

मैं ये कहना चाहता हूँ कि सिर्फ स्कुल, कॉलेजेस से ली हुई शिक्षा पर आश्रित नहीं होना चाहिए। पैसों और वित्तीय शिक्षा के ज्ञान पर बानी हुई किताब रिच डैड पुअर डैड में भी रोबर्ट कियोसाकि जी ने कहा है कि पैसो की शिक्षा हमे स्कुल, कॉलेजों में ठीक से नहीं मिल पाती है। बल्कि सही शिक्षा हमे खुद ही हासिल करनी पड़ती है।

Above all, सही शिक्षा और इस्तेमाल ही आपको अपने उबड़-खाबड़ रास्तों से आगे जाकर सही मुकाम पर ले जायेगी। हमे उचित वित्तीय शिक्षा यानि (Financial Education) प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। वित्तीय शिक्षा यानि पैसों की शिक्षा।

पैसों की शिक्षा का होना उतना ही आवश्यक है जितना कि स्वस्थ रहने के लिए सही खाने की आवश्यकता होती है।

-कुमार

जिस प्रकार उल्टा-पुल्टा खा लेने पर हमारी तबियत बिगड़ने लगती है ठीक उसी प्रकार सही शिक्षा ना होने पर ही हमारे हालत बिगड़ने लगते हैं। पैसों की सही शिक्षा न होने पर हम कैसे भी कहीं भी खर्च कर देते हैं। और बाद में आर्थिक तंगी को खुद न्योता देते हैं।

In conclusion, There is all based on Understanding the Financial Education.

to sum up , दुनिया में हर इंसान पैसे कामना जनता है। कम कमाए या ज्यादा , फर्क इससे नहीं पड़ता बल्कि फर्क इससे पड़ता है कि वो उन पैसों को कहाँ और कैसे खर्च करता है।

Above all, you just need to be the financially litrate people to make yourself comeout of poverty. that’s Why financial Literacy is important for students.

Share this on-

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.